VidRise makes YouTube stand out on social feeds!

About Video - भारतीय संविधान - शासन के अंग | विधायिका क्या है | indian polity GS | akash विधायिका-विधायिका का कार्य कानून का निर्माण करना है,प्राचीन काल में भी कानूनों का निर्माण होता था जैसे कि राजतंत्र प्रणाली में यह कार्य आमतौर पर राजा के हाथों में होता था। और धर्म तंत्र के शासन प्रणाली में धार्मिक ग्रंथों को ही कानून तथा धर्म के सर्वोच्च पदाधिकारियों को कानून का अंतिम व्याख्या कार माना जाता था। आधुनिक काल में लोकतंत्र की स्थापना के बाद माना गया कि कानूनों का निर्माण जनता की इच्छाओं के अनुसार होना चाहिए। जैसे कि कुछ देशों में कोशिश यह की जाती है कि जनता की इच्छाओं को सीधे तौर पर ही जान लिया जाए इसके लिए वहां कुछ विशेष व्यवस्थाएं प्रचलित हैं जैसे कि स्विट्जरलैंड में पहल और जनमत संग्रह से लोगों की भागीदारी सुनिश्चित की जाती है। परंतु सामान्यतः जनसंख्या तथा क्षेत्रफल की अधिकता के कारण व्यवहारिक तौर पर यह संभव नहीं होता कि सारी जनता की राय जानी जा सके, इसलिए आजकल अधिकांश देशों में प्रतिनिधि लोकतंत्र के माध्यम से विधायिका का गठन किया जाता है। इसके अंतर्गत एक क्षेत्र विशेष का जन समुदाय अपने एक प्रतिनिधि को चुनकर विधायिका या विधानमंडल में भेजता है तथा सभी क्षेत्रों से चुनकर आए ऐसे प्रतिनिधि आपसी सहमति से कानूनों का निर्माण करते हैं क्योंकि यह सब प्रतिनिधि जनता द्वारा इसी उद्देश्य के लिए चुने जाते हैं इसलिए यह मान लिया जाता है कि इन की सहमति से निर्मित कानून वस्तुतः जनता की इच्छा के अनुसार ही बनाए गए हैं। वर्तमान राजनीतिक व्यवस्था में विधायिका आमतौर पर 2 सदनों से मिलकर बनती है जैसे भारत में लोकसभा इसी भूमिका में है दूसरे सदन की जरूरत मुख्यता था उन देशों में होती है जो संघात्मक ढांचे के अनुसार संगठित होते हैं संघात्मक ढांचे को सुरक्षित बनाए रखने के लिए इस दूसरे सदन में सभी राज्यों या प्रांतों के कुछ सदस्यों को लिया जाता है संयुक्त राज अमेरिका में सीनेट और भारत में राज्यसभा की यही भूमिका है। क्योंकि अधिकांश कानूनों के निर्माण के लिए इस सदन की भी सहमति आवश्यक होती है इसलिए इस सदन की उपस्थिति से यह सुनिश्चित होता रहता है कि केंद्र सरकार राज्यों की शक्तियों को छीन ना ले। जहां तक भारतीय विधायिका का प्रश्न है यह संघात्मक ढांचे पर आधारित है केंद्र और विभिन्न राज्यों की विधायिकाएं संविधान में निर्दिष्ट अपने अपने क्षेत्रों के लिए विधान बनाते हैं केंद्रीय विधायिका या संसद द्विसदनीय है प्रचलित भाषा में इसके दो सदन में से लोकसभा को निचला सदन तथा राज्यसभा को उच्च सदन कहते हैं।भारतीय राजव्यवस्था पार्ट 1👇👇https://youtu.be/_Hw_LynYpcYभारतीय राजव्यवस्था पार्ट 2 👇👇https://youtu.be/XPyucfS3MIMOur Youtube Channel Subscription link👇👇 https://www.youtube.com/channel/UCTNTVrWNJfl0Cps7eXX_flgOur Facebook Page link👇👇 https://www.facebook.com/jaihoacademy/Telegram group link 👇👇https://t.me/jaihoacademyThanx for Watching Like & Share Comment & Subscribeजय हो अकादमी JAI HO Academy JAY HO Academy